Connect with us

इंसानरूपी भगवान अब मरीज से दूर रहकर भी बचा सकते हैं जान,भारत की इस तकनीक को देखकर दुनिया हुई हैरान ।।

राष्ट्रीय

इंसानरूपी भगवान अब मरीज से दूर रहकर भी बचा सकते हैं जान,भारत की इस तकनीक को देखकर दुनिया हुई हैरान ।।

नई दिल्ली – भारत में डॉक्टरों को भगवान कहा जाता है जो व्यक्ति के जीवन की रक्षा कर देते हैं , हर रोज बढ़ रही टेक्नोलॉजी और वैज्ञानिक गतिविधियों में आज के डॉक्टर रूपी भगवानों को और भी राहत मिली है , जैसे भगवान कहीं भी रहकर आपकी रक्षा करते हैं वैसे ही डॉक्टर ही अब कहीं भी रहकर आपकी बीमारियों को ठीक कर सकते हैं और ऐसा देश में पहली बार हो भी चुका है ।।

चिकित्सकों ने बड़ी कामयाबी हासिल करते हुए 40 किमी दूर भर्ती दिल्ली के कैंसर मरीज का टेलीसर्जरी तकनीक के जरिये सफल ऑपरेशन कर इतिहास रच दिया। करीब एक घंटा 45 मिनट चले ऑपरेशन में मरीज को चीरा लगाने से लेकर ट्यूमर निकालने और वापस टांके लगाने तक की पूरी प्रक्रिया वर्चुअली पूरी की गई। आंखों पर काला चश्मा लगाए, रोबोट चलाते हुए डॉक्टरों ने मरीज के मूत्र मार्ग के आसपास कैंसर प्रभावित कोशिकाओं को काटकर बाहर निकाला।

मरीज की हालत स्थिर है। उसे इसी सप्ताह छुट्टी मिल सकती है। यह सफल ऑपरेशन शनिवार को हुआ। चिकित्सकों की टीम गुरुग्राम स्थित एसएन इनोवेशन में थी और 52 वर्षीय मरीज दिल्ली के रोहिणी स्थित राजीव गांधी कैंसर इंस्टीट्यूट और रिसर्च सेंटर में था। ऑपरेशन के दौरान इंटरनेट या तकनीक में कोई अवरोध न आने से प्रक्रिया पूरी तरह सफल रही। ऑपरेशन कैंसर इंस्टीट्यूट के चिकित्सा निदेशक व जेनिटो-यूरो ऑन्कोलॉजी विभागाध्यक्ष डॉ. सुधीर रावल और उनकी टीम ने किया। डॉ. रावल ने बताया, अब देश के किसी भी कोने में मौजूद मरीज का इलाज टेलीसर्जरी से संभव है।

ऑपरेशन के दौरान दोनों हाथ रोबोट पर थे। कुछ ही सेकंड में अहसास हुआ कि मैं ऑपरेशन थियेटर में हूं और मरीज सामने लेटा है। जिस तरह सामान्य ऑपरेशन में मरीज का सर्जरी वाला हिस्सा दिखता है, उसी तरह का विजन यहां 3डी क्वालिटी के साथ था।

More in राष्ट्रीय

Trending News

About

प्रतिपक्ष संवाद उत्तराखंड तथा देश-विदेश की ताज़ा ख़बरों का एक डिजिटल माध्यम है। अपने क्षेत्र की ख़बरों को प्रसारित करने हेतु हमसे संपर्क करें  – [email protected]

Editor

Editor: Vinod Joshi
Mobile: +91 86306 17236
Email: [email protected]

You cannot copy content of this page